Categories
हिंदी में........कुछ अपनी बात

भ्रम

थक कर, राह में रुक कर देखा जो आसपास

विरक्त मन और क्लांत है तन, अंधकार का नही कोई छोर

भीतर बाहर कालिमा में घुलती गंध जलते लहू की

सहना मुश्किल रहना मुश्किल, कुछ भी लेकिन कहना मुश्किल

औक़ात क्या मेरी क्या तेरी, बस रोटी – पानी की है दौड़

चलते रहने की क़ीमत पर, सहते रहना भी मजबूरी

बोलने की है आज़ादी फिर भी, चुप रहना भी मजबूरी

चमक दमक की आग में देखो तन भी जलते मन भी जलते

झूठी लेकिन शान दिखाने जलते रहना भी मजबूरी

जब से सीखा लिखना – पढ़ना, देखा सुंदर संसार का सपना

नीला अम्बर, हरी वादियाँ, मीठे झरने, चहचहाती चिड़ियाँ

उकेरता था भोला बचपन, चित्रकला की कॉपी में अक्सर

क्या अमीर और क्या फ़क़ीर, कौन नायक था, कौन था वीर

धुँधलाते बचपन के साथ धुलने लगे सारे ये भ्रम

काश कोई ये बतलाता तब, ये पुतले हैं बस माटी के

घुल जाएँगे बारिश में एक दिन, पीछे छोड़ेंगे बस कीचड़ !

_____________शुभा

3 replies on “भ्रम”

आभार ऐसी सुंदर तारीफ़ के लिए
राज़ क्या हमारा आपका एक ही है
“कुछ ख़्वाब और कुछ ज़िंदगी”
😊😊😊🙏🏻🙏🏻🙏🏻

Liked by 1 person

फिर भी
मैं इतना गहराई से नहीं लिख पता जितना आप सुन्दर लिखते हो
फिर भी कोशिश जारी है
😃💐🍫🍫🍭

Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s