Categories
हिंदी में........कुछ अपनी बात

जलन

‘ये कोई बात है कि बिना कोई कारवाई या जाँच के एंकाउंटर कर दिया!!!! क्या हुआ लोकतंत्र को? ‘

बेटा और उसका एक दोस्त रोज़ की तरह आज भी दुनिया को डिसकस कर रहे थे।

‘अरे सब ठीक है यार, जैसे काम वैसा फल’, दूसरे ने कहा। ड्रॉइंग रूम बजबजा रहा है पिछले कुछ दिनों से इसी तरह की बातों से। तभी, “माँ ज़रा चाय बना दो ना हम दोनों के लिए”। “बेटा आज थोड़ी थकान लग रही है, तुम ही बना दो और हाँ मेरे लिए भी एक कप अदरक वाली चाय बनाना।”

“अरे माँ, चायपत्ती का डब्बा किधर है…..हाँ दिख गया।”

सर्र की आवाज़ के बाद कप गिरने की आवाज़ आई…”आह मेरा हाथ जल गया माँ….इतनी जलन हो रही है चाय गिरने से….(पीड़ा थी)।

माँ ने कहा “ठहरो पहले मुआयना कर लूँ कि क्या हुआ और कैसे जला, तब ही दवा लगाई जाए, तुम दो मिनट रुको”

“उफ़्फ माँ क्या हो गया है तुमको, इतनी जलन हो रही है और तुम हो कि….”

“ज़रा सी जलन से ये हाल है तुम्हारा, जिसका मन जलाने के बाद शरीर भी नहीं छोड़ा राक्षसों ने….उसकी जलन का क्या….कैसा लगा होगा उसे….राक्षस और इंसान के लिए एक ही नियम?…..बताओ”

शुभा

2 replies on “जलन”

बिल्कुल और ये उनको भी समझ में आना ज़रूरी है जो सज़ा मिलने की प्रक्रिया में अनावश्यक देर करते हैं क्यूँकि delayed justice like is no justice

Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s