Categories
हिंदी में........कुछ अपनी बात

“जलता नहीं दीया”

जलता नहीं है दीया

जलती तो बाती और उससे लिपटी

तेल की धार है….

वो जो जल रही निरंतर

उसकी रौशनी का श्रेय

कैसे ले सकता है कोई

फिर चाहे वो मिट्टी हो या

उससे बना कोई आकार है…..

ख़ुद को तपाने पर ही

रौशनी होती है पैदा

बाकी तो आवरण का कारोबार है …..

दीपक की सुंदरता में खो जाने वालों

याद रखो

दीपक के ठीक नीचे ही होता

गहरा अंधकार है…….

शुभा

7 replies on ““जलता नहीं दीया””

बहुत सुंदर
अक्सर उन्हीं के घर अंधेरा रह जाता है
जिन्हें रोशनी से बहुत प्यार है

Like

बहुत बहुत धन्यवाद अरुण जी
दीये के आवरण से आजकल चकाचौंध है हम….रौशनी की किसको परवाह है

Like

बहुत बहुत धन्यवाद अरुण जी
दीये के आवरण से आजकल चकाचौंध है हम….रौशनी की किसको परवाह है

Liked by 1 person

जलता नहीं दिया… Excellent
कम शब्दों में बहुत बड़ी बात कह दिया दीदी आपने

आंखों से जो दिखता है वैसा होता नहीं, समझ के
अभाव में या कमी में हम पूरा देख नहीं पाते..

Reality to Kuch और ही होती है….
समझ पूरी होती है तो पूरा देख पाते हैं 🤗

क्या मैंने ठीक समझा दीदी?
अगर कुछ और समझा हूं तो please Sahi Kar के बताएं 😊🙏

Liked by 1 person

एकदम इसी तरह का अर्थ था विकास भाई
आपको पसंद आई ये बात और इतने अच्छे से आपने describe भी किया – आभार

Like

“ख़ुद को तपाने पर ही

रौशनी होती है पैदा

बाकी तो आवरण का कारोबार है …..

दीपक की सुंदरता में खो जाने वालों

याद रखो

दीपक के ठीक नीचे ही होता

गहरा अंधकार है…….”

यह पंक्तियां दिल को छू गई।

Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s